“हर तरफ चली हवा असुरक्षा की!
बचपनें को कैसे सुरक्षित करू!!
हर मोड़ पर दिल घबराता हैं!
जब तुझको छोड़ मेरे लाल मैं काम पर चली!!
कितना सिखाती हूँ तुझको अंजानों से बात न कर!
फिर भी मेरे लाल हर मोड़ पर घबराती हूँ!!
कमाने की मज़बूरी न होती तो तुझे सीने से लगा कर रखती!!
आँखों से ओझल न होने देती!!
क्योंकि हर मोड़ पर दिल घबराता हैं!!
कौनसा स्पर्श सही हैं मेरे बच्चें और कौनसा गलत!!
ये तुझे सिखाती हूँ!!
हर तरफ मुखौटो में कोई छिपा हैं!
तू पहचान सके उसे ये तुझे बतलाती हूँ!
क्योंकि हर मोड़ पर दिल घबराता हैं!”

Related Post

January 16, 2022

रंगों के साथ रंगोली

दिल्ली की सर्द ठंडी में जहाँ रजाई से निकलने

December 2, 2021

” छोटी सी उमर हैं मैं भी पढ़ना चाहू

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *