“नन्हें फ़रिश्ते हैं हम!
दुनियादारी से बेखबर हैं हम!!
खुल के जीते हैं हर लम्हें को!
आओं मुस्कुरा लो आप भी!!
फिर न कहना काश हम भी! बच्चें होते ”

हम सब के अंदर एक बच्चा छिपा हैं जो जिम्मेदारियों के अंदर कही छुप सा गया हैं, उस बच्चें को वहाँ से निकालिये और फिर से बच्चें बन जाये |

Related Post

January 16, 2022

रंगों के साथ रंगोली

दिल्ली की सर्द ठंडी में जहाँ रजाई से निकलने

December 2, 2021

” छोटी सी उमर हैं मैं भी पढ़ना चाहू

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *